Sunday, July 31, 2011

फिर से आई दिवाली....


देखते-देखते नवम्बर आ गया और साथ ही आ गया दीपों का त्योहार दीपावली... आपको याद है पिछली बार दीपावली के दिन ही हमारी लाडो हॉस्पिटल से घर आई थी... हाँ तब तिथि थी १४ नवम्बर और इस बार तिथि थी ४ नवम्बर... तब बेटी छुई-मुई सी, नाज़ुक सी, पूरी दुनिया से बेखबर किसी भी हलचल से अनजान... नन्ही पलकों के पीछे सपनों में खोई रहती थी... लेकिन आज वो समझदार... नटखट... चुलबुली.. और बड़ी ही प्यारी सी गुड़िया में बदल चुकी थी... नौ महीने में चलना शुरू कर देने वाली हमारी लाडली ने घुटनों की जगह सीधे पाँव से ही चलना शुरू कर दिया था और अब तो वो बिंदास दौड़ती-भागती घर के हर कोने को अपनी मीठी रुनझुन से आबाद किये रहती थी... और दीपावली के दिन तो बेटी बहुत-बहुत खुश थी... दीयों की रोशनी सी झिलमिलाती उसकी ख़ुशी... रंगबिरंगी रोशनियों सी चमकती उसकी आँखें... पूरे घर को रौशन करती उसकी खिलखिलाहटें... बस देखते ही बनती थीं... दीपावली का पावन पर्व बेटी की मुस्कुराहटों से पूरी तरह जगमगा उठा था... उन प्यारी खुशियों के कुछ मोती आज यहाँ पिरो कर लायी हूँ....

मम्मा के साथ बेटी ने पूरे घर में कैंडिल जलाई  
और फिर रोशनी से जगमगाते घरों को देख खिल उठी 
       
लेकिन ये क्या...! फुलझरी हाथ में आते ही चौंक पड़ी 
गोद से नीचे उतर डरते-डरते फुलझरी और चरखी को पास से देखा 

मम्मा ने प्यार से फुलझरी पकड़ना सिखाया 

 धीरे-धीरे बेटी का डर गायब होने लगा 

और अब उसे मज़ा आने लगा 

फिर तो बेटी ने पापा को भी फुलझरी हाथ में लेकर दिखाई
और इस तरह देखते ही देखते रुनझुन पूरी तरह से दिवाली की मस्ती में शामिल हो गयी अनार, फुलझरी, चरखी, पटाखे... बेटी ने बिना डरे सबका आनंद लिया... क्योंकि आपको तो पता है न! रुनझुन बिलकुल भी नहीं डरती... बेटी की इन मासूम खिलखिलाहटों और चमकती आँखों ने दीपावली के पावन पर्व में सचमुच ही चार चाँद लगा दिए....  

19 comments:

  1. अरे वाह अभी से दीपावली की मस्ती....

    ReplyDelete
  2. एक बात तो बताना ही भूल गई ..रुनझुन का ब्लॉग भी फालो कर लिया, तुम भी आना....

    ReplyDelete
  3. Wah ..khoob mast rahi yeh diwali to.... pyare pyare hain sabhi photos...

    ReplyDelete
  4. तो आने वाली दीवाली हम आपके साथ मनाएंगे :)
    ------------
    कल 03/08/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. एक दम मस्त और मजेदार सदा खुश रहिये ..!

    ReplyDelete
  6. हमने भी अनुसरण कर लिया आपके ब्लॉग का .....आप भी चलते -चलते आना

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर ..... अब आने वाली दिवाली में साथ में खुशिया बाटेंगे

    सॉरी दीदी आने में देरी हो गयी मई भारत गयी हुयी थी दादा-दादी नाना-नानी से मिलने !

    ReplyDelete
  8. हमलोग दीवाली में खूब मस्ती करेंगे .अब तो मैंने रुनझुन को फोलो भी कर लिया है

    ReplyDelete
  9. इस साल और भी मस्ती होने वाली है दीपावली पर .. सुन्दर पोस्ट

    ReplyDelete
  10. Ap jaise pyare bachche hi ham badon ke jeevan ki raunak hai.... Photo bade pyare hain beta...

    ReplyDelete
  11. bahut maja aaya hoga n!
    bahut badiya deewali prastuti..

    ReplyDelete
  12. रुनझुन अभी ही दीवाली का रंग भी दिखा गयी तो दिवाली में क्या और स्टाक रखना -सुन्दर छवियाँ पटाखों से दूर ही रहना धुवां भी एलर्जी पैदा करता है -
    भ्रमर ५
    बाल झरोखा सत्यम की दुनिया

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया!

    ReplyDelete
  14. लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/
    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    ReplyDelete
  15. मेरी बातें सुनने और उन्हे पसंद करने के लिये आप सबका बहुत-बहुत धन्यवाद!!!... ये सब तो मेरी पुरानी बातें हैं न, जो आपको अब पता चल रही हैं...लेकिन हाँ आने वाली दीपावली तो अब मैं आप सब के साथ ही मनाउँगी...यशवन्त अंकल ये मेरा पक्का वादा है आप सबसे...और हाँ सुरेन्द्र शुक्ला अंकल मैं आपकी बात भी ज़रूर ध्यान में रखूँगी... एक बार फिर आप सबको मेरा बहुत-बहुत धन्यवाद!!!

    ReplyDelete

आपको मेरी बातें कैसी लगीं...?

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...