Monday, March 26, 2012

मेरा स्कूल....



आइये आज मैं आपका परिचय अपने स्कूल से करवाती हूँ...


ये है मेरा स्कूल 

मेरा स्कूल यानि दिल्ली पब्लिक स्कूल (गाँधीधाम), एक ऐसी जगह जहाँ मैं हमेशा रहना चाहती हूँ.... मेरे स्कूल की स्थापना १९ जून, २००६ में हुई गयी थी| यहाँ, ३ फ्लोर्स हैं- ग्राउंड, फर्स्ट और सेकंड... गाँधीधाम भूकंप ज़ोन में आता है इसलिए हमारे स्कूल की सारी बिल्डिंग्स सर्कुलर शेप में हैं और ऊपर जाने के लिए सीढियाँ नहीं बल्कि स्लाइडर्स हैं.... यहाँ पर कम्पयूटर लैब, म्यूज़िक-डांस रूम, आर्ट रूम, स्पोर्ट्स रूम, लाइब्रेरी, स्केटिंग रिंक, बास्केटबॉल कोर्ट, स्पोर्ट्स फ़ील्ड, रंगबिरंगे झूलों से भरा प्लेग्राउंड, कैंटीन आदि सभी कुछ हैं.... यहाँ पर ईवनिंग एक्टिविटीज़ भी होतीं हैं.... जब कभी स्कूल में कुछ ज्यादा होम-वर्क मिल जाता है तो हम सब स्कूल को बोरिंग मानते हैं लेकिन अगले ही पल मैं स्कूल जाने के नाम से उछल-कूद के तैयार हो जाती हूँ.... एक पल गिर के चोट लगने पर स्कूल को ज़िम्मेदार मानती तो अगले ही पल नर्स मैम से दवाई लग जाने के बाद स्कूल को थैंक्यू कहती हूँ...  टीचर्स से डांट पड़ने पर बहुत दुःख होता है लेकिन अगले पल टीचर्स से प्रशंसा सुनकर वही सबसे अच्छी टीचर लगने लगती हैं.......चाहे मैं अपने स्कूल से कितना भी गुस्सा क्यों ना हो लूँ पर यह मेरी  फेवरेट जगह ही रहेगी.......



हमारा प्लेग्राउंड 

मैंने अपने इस स्कूल में एडमिशन 7 दिसंबर 2010 को लिया था और फिर 8 दिसंबर से अपने नए स्कूल में जाना शुरू कर दिया... शुरुआत में तो कुछ दिन मुझे यहाँ अच्छा नहीं लगा लेकिन धीरे-धीरे मुझे अपने इस स्कूल से भी प्यार हो गया... आपको सच बताऊँ...जब अपने पुराने स्कूल से शिफ्ट होकर मैं इस स्कूल में आई थी तब मुझे बिलकुल नहीं लगा था कि ये स्कूल मेरा फेवरेट बन जायेगा लेकिन अब.... अब तो मैं कहूँगी...."My School Rocks"  



ये है सी-विंग  जो उस समय निर्माणाधीन था लेकिन
अब पूरा बन चुका है


ह्म्म्म!!! ये तो मैं हूँ ऑफिस के सामने...:)


वो दूऊऊर मेरे पीछे रंग-बिरंगा कुछ दिख रहा है ?
जी हाँ! वो हैं हमारे रंग-बिरंगे, प्यारे-प्यारे झूले


और ये है इन्ट्रेन्स पैसेज...


ये सारी फोटो तो उस दिन की है जब मैं इस नए स्कूल में एडमीशन के लिए पहली बार आई थी... अभी तो बहुत-बहुत कुछ है मेरे पास अपने स्कूल के बारे में बताने के लिए लेकिन अब आज इतना ही... और ढेर सारी बातें बाद में बताऊँगी... बाय...



9 comments:

  1. अरे वाह आपकी तरह आपका स्कूल भी बेहद प्यारा है :)
    इसी तरह हँसती मुसकुराती रहना और हाँ स्कूल से दोस्ती हमेशा बनाए रखना।

    ReplyDelete
  2. दिल्ली पब्लिक ।
    ------ करे दिक् ।
    घबराओ ------
    कर ----- अधिक ।
    मन ---कर ---------
    ---------टॉपिक ।
    मार्क्स -------
    ------सर्वाधिक ।
    लेकिन ----
    -----------व्यवहारिक ।।

    ReplyDelete
  3. Superb...Excellent...कितना सुन्दर लेखन ...कितनी प्यारी अभिव्यक्ति....विश्वास नहीं होता हमारी बिटिया की लेखनी इतनी सशक्त हो गयी है...मेरे तो सख्त कम्पीटीशन के दिन आ गए लगते हैं.... :-D

    ReplyDelete
    Replies
    1. नहीं अभी कहाँ मैं आपके साथ कम्पटीशन कर सकती हूँ.....I need a lot of time to compare with you....thanks for encouraging me so much!!!

      Delete
  4. oye-hoye toshi didi ka school kitna sundar....pata hai didi ab mai bhi school jane wali hoon.

    ReplyDelete
  5. Reema BhardwajAugust 07, 2012

    arey tera school to bahut sunder aur bara bhi hai .....chhotiu ko bhi vohi bula le .:)))

    ReplyDelete

आपको मेरी बातें कैसी लगीं...?

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...