Monday, August 6, 2012

Hiroshima day

                                                             Picture courtesy:  Google
                         
आज हिरोशिमा डे है... पता है हिरोशिमा डे का अर्थ क्या है?...

द्वितीय विश्व युद्ध  (IInd World War ) के समय 1945 में अमेरिका ने जापान के दो शहर- हिरोशिमा तथा नागासाकी पर परमाणु बम गिराया था| इस खतरनाक बम ने जैसे ही इन दो शहरों की धरती को छूआ, चारों तरफ़ अफ़रा-तफ़री मच गयी... न जाने कितने बच्चे, औरतें, आदमी, जीव-जंतु, वनस्पति उस तबाही में मारे गए... उन दोनों शहरों में तबाही के बाद कुछ भी न बचा था... न कोई मनुष्य, न कोई जानवर और न ही कोई पेड़-पौधे... सबसे पहले अमेरिका ने 6 अगस्त 1945 को हिरोशिमा पर बम गिराया और उसके ठीक तीन दिन बाद यानि 9 अगस्त को परमाणु बम ने नागासाकी की भूमि पर तबाही मचा दी... मैंने जब उस भयंकर तबाही के दिल- दहला देने वाले चित्र देखे तो मेरी आखों से आँसू निकल गए...

दोस्तों, विज्ञान हमारी प्रगति और उन्नति का प्रतीक है... लेकिन आज हम विज्ञान का सदुपयोग करने की जगह दुरुपयोग कर रहे हैं... खतरनाक बमों का निर्माण कर अपने ही दोस्तों... अपने ही साथियों को मारने में भला कैसी खुशी... ?.... अनगिनत जीवन को मृत्यु में परिवर्तित कर भला कैसा सुकून....?....कैसी शांति...? 
क्या अपनी शक्ति का यूँ प्रदर्शन करना या फिर खुद को शक्तिशाली सिद्ध करने के लिए अनगिनत प्राणों की आहुति दे देना ज़रूरी है..?....

आज हमें विज्ञान का सही उपयोग करने की शपथ लेनी ही होगी...... लेनी ही होगी... और यही हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी उस भयानक तबाही में मारे गए अनगिनत प्राणियों के प्रति....!!!



5 comments:

  1. बहुत अच्छी बात कही रुनझुन ...यह शपथ लेना हम सबके लिए बहुत ज़रूरी है।



    With Love-

    ReplyDelete
  2. Reema BhardwajAugust 07, 2012

    chhoti muh bari baat ............gud !!

    ReplyDelete
  3. ये शपथ तो आज के समय में और भी ज्यादा जरूरी है ...
    सकारात्मक पोस्ट ...

    ReplyDelete
  4. बात तो एकदम सच कही है आपने !

    ReplyDelete

आपको मेरी बातें कैसी लगीं...?

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...