Tuesday, August 23, 2011

तेरे रूप अनेक तू एक ही है...



      कुछ तकनीकी परेशानी की वजह से "रुनझुन की बातों" में एक अल्पविराम आ गया था, लेकिन अब सब ठीक है और उम्मीद है कि बातों का ये सिलसिला बिना किसी बाधा के, निरंतरता के साथ आगे जारी रहेगा...कल ही हमने माखन चोर नन्द किशोर का जन्मोत्सव मनाया है इसलिए उन्ही के वंदन और आशीर्वाद के साथ आज की ये पोस्ट उसी नटखट कन्हैया को समर्पित है....

                
                     2003 की श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन नटखट कन्हैया ग्वाल-बालों संग हमारे घर पधारे थे... नहीं विश्वास होता न !..... तो चलिए आप खुद ही उनसे मिल लीजिये...

मुरली बजैय्या...कृष्ण कन्हैया!!!

नटखट नन्द किशोर

करत ठिठोली..संग हमजोली 

नार नवेली... राधा अलबेली !!! 

अच्छी नहीं कान्हा ये तेरी अठखेली...

फोड़ दियो तूने मोरी माखन की मटकी 


और ये रहे...


गोपी और ग्वाल 

आधुनिक पालकी पे सवार...

डाले हाथों में हाथ... चले कान्हा के पास 

तो देखा न आपने...अब तो विश्वास हो गया न...? जी हाँ, ये है हमारी-आपकी, हम सबकी "रुनझुन" कभी नटखट कन्हैया... कभी राधा रानी तो कभी ब्रज की गोरी... हाँ साथ में ग्वाल बने हैं रुनझुन के छोटे से अनिकेत मामा...कैसी लगी बिटिया की ये पावन छवियाँ......?

9 comments:

  1. बहुत बढ़िया लगे कान्हा.....
    बधाई.....

    ReplyDelete
  2. बहुत क्यूट कान्हा ...... सारे फोटो प्यारे लगे.....

    ReplyDelete
  3. बहुत ही मनोहारी चित्र थे कान्हाजी के ......जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया डियर।
    -----

    कल 25/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. बाल नंद्लाला की मोहक तस्वीरें.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर मनोहर छविवाले किसना ,राधा,ग्वाल्वाल ,और उनकी आधुनिक सवारी /देख कर बहुत अच्छा लगा /जिंदगी मैं उन्हें हमेशा सफलता मिले और वो भी कभी अन्याय के सामने ना झुकें और ना उसका साथ दे यही कामना है .बधाई आपको और शुभकामनाएं /


    plese visit my blog.thanks
    www.prernaargal.bligspot.com

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत चित्र..नटखट कन्हिया और राधा के .

    ReplyDelete
  8. manbhavan-monmohan-natkhat-chitchor....are ye kaun .....hamari toshi beti... kaun aur..... :-)

    ReplyDelete
  9. छ: वर्षीय शाश्वत ने ये पोस्ट पढ़ी, न जाने उसे क्या सूझा, उसने हिंदी टाइपिंग का तरीका पूछा और एक लाइन कमेन्ट बॉक्स में लिखकर पोस्ट करने की कोशिश करने लगा लेकिन सफल नहीं हो पाया क्योंकि उसकी कोई Net identity नहीं है...इसलिए उसकी लिखी लाइन ज्यों की त्यों copy-paste द्वारा यहाँ संलग्न है....
    " वाह कीतनी अच्छी फोटो है और प्यारी सी रुनझुन की बातें हैं |"
    यहाँ ये भी बताना ज़रूरी है की ये "मास्टर शाश्वत" "रुनझुन" के छोटे भाई हैं....

    ReplyDelete

आपको मेरी बातें कैसी लगीं...?

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...