Friday, November 30, 2012

बार-बार दिन ये आये....:)... (Part-2)


पिछली पोस्ट में आप सबके साथ अपने जन्मदिन की कुछ यादें शेयर कर रही थी न! तो बस आज उन्हीं यादों की अगली कड़ी लेकर हाज़िर हूँ

ये है 7 नवम्बर 2005 की कुछ यादें इस वर्ष मेरे साथ मेरा प्यारा भाई भी था  और इस बार का केक मेरा अब तक का सबसे सुन्दर केक था.... पिंक कलर की प्यारी सी सुन्दर सी डांसिंग डॉल... सच्ची इस केक को तो काटने का ही मन नहीं कर रहा था..... आप भी देखिये.... 


है न केक बहुत ही सुन्दर !!!
 पहले तिलक...

And then...  Blow.....!!!

और अब ये लीजिये केक भी कट गया  

सबसे पहले केक मेरे प्यारे भाई को 

उसके बाद मेरी बारी 

 इस साल मैंने अपनी उम्र के चार वर्ष पूरे किये थे... और उसके बाद यानि 7 नवम्बर 2006 में मैंने अपना जन्मदिन पटना में मनाया था... इस बार मेरे दोस्तों की पूरी टोली मेरे साथ थी.....

ये रही हमारी टोली...  
इस बार दादू भी मेरे साथ थे 











और अब आपको बताती हूँ उस जन्मदिन के बारे में जो मेरे लिए अब तक का सबसे सरप्राईजिंग बर्थडे था.... सबकुछ एकदम सपने जैसा..... 7 नवम्बर 2009.... मम्मी ने मुझे रोज़ की तरह स्कूल जाने के लिए सुबह पांच बजे उठा दिया.... पूरे घर में अँधेरा था... मैं जैसे ही वाशरूम से बाहर आई, मुझे ड्राइंग रूम की तरफ से रंग-बिरंगी हलकी रोशनी आती दिखाई दी... मैं उस तरफ बड़े कौतूहल के साथ बढ़ी और तभी धीमे-धीमे गाने की आवाज़ सुनाई पड़ी.... "तू जिए हजारों साल............. " मैंने देखा डी वी डी पर ये गाना बज रहा था और वही से ये रोशनी भी आ रही थी... मैं वहीँ पर रखे सोफे पर बैठ कर मंत्रमुग्ध सी देखने लगी.... अब तक मेरी नींद पूरी तरह से खुल चुकी थी, तभी अचानक मेरी निगाह कमरे में रखे टेबल की तरफ गयी... हलकी रोशनी में वहां कुछ चमक रहा था मैं आश्चर्यचकित सी वहां पहुंची तो देखा टेबल पर ढेर सारे गिफ्ट्स रखे हैं.... मैं हैरानी से उसे देख ही रही थी कि तभी मम्मी ने लाईट ऑन की और बड़े ही प्यार से मुझे जन्मदिन की बधाई दी... मैं तो एकदम चकित थी ऐसा लग रहा था मानो मैं कोई सुन्दर सपना देख रही हूँ.... और फिर उसके बाद तो पूरा दिन बहुत ही स्पेशल था.... आइये आपको भी दिखाती हूँ... 


टेबल पर रखे ढेर सारे प्यारे-प्यारे गिफ्ट्स 

उन गिफ्ट्स में सबसे प्यारी थी ये सुन्दर सी डॉल  

है न बिलकुल Chubby Chicks....!!! 

मैं और मेरी प्यारी डॉल 
प्रभा आंटी जिन्हें हम सब बच्चे टीचर आंटी कहते थे 




प्यारा सा बटरफ्लाई केक और ढेर सारे दोस्त 


स्पेशल लोटस कैंडल 










आप सब शायद बोर हो गए होंगे लेकिन मुझे अपने जन्मदिन की फ़ोटोज़ देखना बहुत पसंद है... आप सबको दिखने के बहाने मेरी सारी यादें ताज़ा हो गयी और मुझे बहुत मज़ा आया.... अब चलती हूँ जल्दी ही फिर मिलूँगी... तब तक के लिए.... बाय-बाय... !!!



5 comments:

  1. मुझे भी फोटो देखना बहुत अच्छा लगता है ......... :D

    सारे फोटो अच्छे आये भी हैं ........... (y)

    मुझे भी केक खाने थे ........ :))

    ReplyDelete
  2. देर आमद दुरुस्त आमद ... हैप्पी बर्थड़े !


    विश्व एड्स दिवस पर रखें याद जानकारी ही बचाव - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    बधाई हो!
    दो दिनों से नेट नहीं चल रहा था। इसलिए कहीं कमेंट करने भी नहीं जा सका। आज नेट की स्पीड ठीक आ गई और रविवार के लिए चर्चा भी शैड्यूल हो गई।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (2-12-2012) के चर्चा मंच-1060 (प्रथा की व्यथा) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर यादे ...:) व्यस्तता के कारण बहुत समय बाद ब्लॉग पर आई हू ... आपका जन्म दिन तो निकल गया फिर भी आपको Belated Happy Birth day , आशीर्वाद और बहुत प्यार !

    ReplyDelete
  5. Fantastic site. Plenty of helpful information here.
    I am sending it to a few friends ans additionally sharing in delicious.
    And of course, thanks for your sweat!

    Feel free to surf to my web page ... how to buy a car with bad credit
    my web site: buying a car with bad credit,buy a car with bad credit,how to buy a car with bad credit,buying a car,buy a car,how to buy a car

    ReplyDelete

आपको मेरी बातें कैसी लगीं...?

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...